ईसाई धर्म के लोगों ने पवित्र स्थल यरूशलम और पूरी दुनिया में ईस्टर का पर्व मनाया

0
313

फ्रांसिस पिछले सप्ताह दो बार लोगों से मुखातिब हुए और उन लोगों को खारिज किया कि जो ईश्वर का नाम लेकर आतंकी गतिविधियों को अंजाम दे रहे हैंईसाई धर्म के लोगों ने पवित्र स्थल यरूशलम और पूरी दुनिया में ईस्टर का पर्व मनाया। धार्मिक मान्यता के मुताबिक, सूली पर चढ़ाए जाने के दो ही दिन बाद प्रभु यीशू 2000 साल पहले दोबारा जीवित हो गए थे। इसी उपलक्ष्य में ईस्टर का पर्व मनाया जाता है। यरूशलम के होली सेप्युलचर गिरजाघर में भारी संख्या में श्रद्धालु मौजूद थे। माना जाता है कि इसी स्थान पर प्रभु यीशू को सूली पर चढ़ाया गया था और दफन किया गया था। वह फिर जीवित हो गए थे। बेथलहम स्थित नौटिविटी गिरजाघर में मास का आयोजन होता है। यह प्रभु यीशू का जन्मस्थान है।
पोप फ्रांसिस ने विजिल सर्विस की अगुआई की। अपने संदेश में फ्रांसिस ने कहा कि अंधेरा और डर कायम नहीं रहना चाहिए। दुनिया को निराशावाद से मुक्त होना चाहिए। पोप फ्रांसिस सेंट पीटर्स स्क्वायर में ईस्टर संडे मास का जश्न मनाया जा रहा है, जहां हजारों श्रद्धालु इकट्ठा हुए हैं। इस मौके पर वेटिकन में सुरक्षा के कड़े प्रबंध किए गए हैं। हर जगह चौकसी बरती जा रही है। कई सालों से वेटिकन और रोम आतंकवादियों के निशाने पर हैं। फ्रांसिस पिछले सप्ताह दो बार लोगों से मुखातिब हुए और उन लोगों को खारिज किया कि जो ईश्वर का नाम लेकर आतंकी गतिविधियों को अंजाम दे रहे हैं।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY