महबूबा के साथ सरकार में रहना बीजेपी के कुर्सी प्रेम की असलियत

0
97
राम माधव (फ़ाइल फ़ोटो)

जम्मू-कश्मीर

जम्मू-कश्मीर विधानसभा भंग होने के बाद सियासी बयानबाजी तेज हो गई है. पाकिस्तान से निर्देश मिलने पर सरकार गठन की कोशिश संबंधी बयान BJP महासचिव राम माधव ने वापस ले लिया है.

राम माधव (फ़ाइल फ़ोटो)

खास बातें

●उमर अब्‍दुल्‍ला ने राम माधव को दी चुनौती
●बुधवार को राज्‍यपाल ने जम्‍मू-कश्‍मीर विधानसभा भंग कर दी
●मिलकर सरकार बनाना चाहते थे एनसी और पीडीपी

श्रीनगर : जम्मू-कश्मीर विधानसभा भंग होने के बाद सियासी बयानबाजी तेज हो गई है. पाकिस्तान से निर्देश मिलने पर सरकार गठन की कोशिश संबंधी बयान BJP महासचिव राम माधव ने वापस ले लिया है., लेकिन उमर अब्दुल्ला से कहा है कि उन्हें अगला चुनाव भी PDP के साथ मिलकर ही लड़ना चाहिए.
भारतीय जनता पार्टी नेता राम माधव ने ट्वीट कर गुरुवार सुबह कहे अपने शब्द वापस लिए और कहा, “मैं अभी आईज़ॉल पहुंचा हूं, और यह (उमर अब्दुल्ला का ट्वीट) देखा… अब, जब आप किसी बाहरी दबाव की बात से इंकार कर रहे हैं, मैं अपनी टिप्पणी वापस ले रहा हूं, लेकिन अब जब आपने साबित कर दिया कि NC और PDP के बीच सच्चा प्यार था, जिसकी वजह सरकार गठन की यह नाकाम कोशिश की गई, तो अब आपको अगले चुनाव मिलकर लड़ने चाहिए… ध्यान रहे, यह राजनैतिक टिप्पणी है, व्यक्तिगत नहीं…”
राम माधव ने कहा था, ‘पिछले महीने पीडीपी और नेशनल कॉन्फ्रेंस ने स्थानीय निकाय चुनाव में हिस्सा नहीं लिया था, क्योंकि ऐसा करने के लिए उन्हें सीमा पार से आदेश मिले थे. शायद इस बार उन्हें ताजा आदेश मिले है कि वे साथ आएं और सरकार बनाए.’
उमर अब्दुल्ला ने इसके बाद उन पर पलटवार किया और चुनौती देते हुए कहा कि राम माधव जी अगर हिम्मत है तो इन आरोपों को साबित कीजिए. आपके पास रॉ, एनआईए और आईबी है, आप सबूतों को सार्वजनिक करें. या फिर माफी मांगे.

इसके बाद राम माधव ने ट्वीट में कहा, ‘परेशान न हों, उमर अब्दुल्ला.. आपकी देशभक्ति पर सवाल नहीं उठा रहा हूं. लेकिन नेशनल कांफ्रेंस और पीडीपी के बीच अचानक उमड़े प्रेम और सरकार बनाने की जल्दबाजी के कारण कई संदेह पैदा हुए और राजनीतिक टिप्पणी आई. आपको कष्ट पहुंचाने के लिये नहीं.’

इसके बाद उमर अब्दुल्ला ने कहा कि आपने दावा किया है कि मेरी पार्टी पाकिस्तान के निर्देशों पर काम करती है. मैं आपको इसे साबित करने की चुनौती देता हूं. यह आपको और आपकी सरकार के लिए खुली चनौती है.
राम माधव ने इसके बाद अपनी टिप्पणी वापस लेने का ट्वीट किया. उन्होंने उमर के ट्वीट का जवाब देते हुए लिखा है, ‘मैं अभी आइजोल उतरा हूं और मैंने यह देखा. अब आप किसी भी तरह के बाहरी दवाब से मना कर रहे हैं तो मैं मेरी टिप्पणी वापस लेता हूं. लेकिन अब आपको यह साबित करना होगा कि एनसी और पीडीपी के बीच पनपा प्यार सच्चा था. जिसने सरकार बनाने के लिए असफल कोशिश की. आप लोगों को अगले चुनाव साथ लड़ने चाहिए. यह राजनीतिक टिप्पणी थी, निजी नहीं.’
बता दें, पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने बुधवार शाम कांग्रेस और नेशनल कॉन्फ्रेंस के समर्थन के साथ सरकार बनाने का दावा पेश किया था. इस दावे के तुरंत बाद जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने विधानसभा को भंग कर दिया था.

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY