क्या भाजपा ने सत्ता कई हजार करोड़ के विज्ञापनों से हथियायी, प्रचार/ चैनलों पर सबसे ज्यादा विज्ञापन,एक हफ्ते में 22 हजार बार दिखाए गए ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल की रिपोर्ट में टॉप-10 में भाजपा अकेली राजनीतिक पार्टी,पान मसाला कंपनी को भी पीछे छोड़ा

0
93

नई दिल्ली. टीवी चैनलों पर पिछले हफ्ते सबसे ज्यादा विज्ञापन भाजपा के दिखाए गए। ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (बार्क) के आंकड़ों के मुताबिक, 10 से 16 नवंबर के हफ्ते में सभी चैनलों पर भाजपा के ऐड 22,099 बार ऑन एयर हुए। विज्ञापन प्रसारण की टॉप-10 लिस्ट में भाजपा अकेली राजनीतिक पार्टी है। पिछले हफ्ते भाजपा का दूसरा नंबर था। तब विमल पान मसाला का विज्ञापन सबसे ज्यादा बार प्रसारित हुआ था। लेकिन, इस बार टॉप-10 से भी बाहर हो गया। बार्क हर हफ्ते टीवी चैनलों की रेटिंग और विज्ञापन प्रसारण के आंकड़े जारी करता है।
सोशल मीडिया पर अपना एक मिनट का वीडियो प्रत्याशी को पड़ेगा डेढ़ लाख का  
साढ़े चार साल में विज्ञापन पर 5,000 करोड़ रु खर्च
विश्लेषकों के मुताबिक, दिसंबर तक 5 राज्यों के चुनाव होने हैं। इनके नतीजे अगले साल होने वाले लोकसभा चुनावों पर भी असर डालेंगे। इसलिए राजनीतिक विज्ञापनों की संख्या बढ़ रही है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मोदी सरकार साढ़े चार साल के कार्यकाल में विज्ञापन पर करीब 5,000 करोड़ रुपए खर्च कर चुकी है। यूपीए सरकार ने 10 साल में इतना खर्च किया था। इस साल एक आरटीआई आवेदन के जवाब में सामने आया कि इलेक्ट्रोनिक मीडिया में विज्ञापन के लिए मोदी सरकार ने 2,221.11 करोड़ रुपए खर्च किए।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY