पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों के सर्वे में बीजेपी के पिछड़ने का संकेत मिलने के बाद विपक्षी खेमा उत्साहित, राहुल-सोनिया से मिले स्टालिन

0
114
कांग्रेस मोदी सरकार के खिलाफ शुरू करेगी अभियान

चुनाव नतीजों से पहले विपक्षी एकता के लिए महाबैठक कल, राहुल-सोनिया से मिले स्टालिन, पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों के सर्वे में बीजेपी के पिछड़ने का संकेत मिलने के बाद विपक्षी खेमा उत्साहित नजर आ रहा है। मंगलवार को चुनाव नतीजे आने से पहले विपक्षी एकता को मजबूत करने के मकसद से टीडीपी नेता चंद्रबाबू नायडू ने गैर-बीजेपी दलों की बैठक बुलाई है।
पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों के सर्वे में बीजेपी के पिछड़ने का संकेत मिलने के बाद विपक्षी खेमा उत्साहित नजर आ रहा है। मंगलवार को चुनाव नतीजे आने से पहले विपक्षी एकता को मजबूत करने के मकसद से टीडीपी नेता चंद्रबाबू नायडू ने गैर-बीजेपी दलों की बैठक बुलाई है। इस मीटिंग में विपक्षी दल 2019 के चुनावों में एकजुट होकर बीजेपी को परास्त करने को लेकर अपनी रणनीति को लेकर चर्चा करेंगे।
इससे पहले डीएमके के अध्यक्ष एम.के. स्टालिन ने रविवार को इसी रणनीति को धार देते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और यूपीए की मुखिया सोनिया गांधी से मुलाकात की। स्टालिन से मीटिंग के बाद राहुल ने कहा, ‘हमारी बैठक सौहार्दपूर्ण रही और हमने विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की।’उन्होंने कहा, ‘मैं अपना संवाद जारी रखने और हमारे गठबंधन को मजबूत बनाने की ओर अग्रसर हूं। हमारा गठबंधन समय की परीक्षा से गुजर रहा है।’
ममता बनर्जी के आने पर संशय
स्टालिन ने पूर्व केंद्रीय मंत्री डी. राजा और कनिमोझी के साथ सोनिया गांधी से उनके 72वें जन्मदिन पर मुलाकात की। हालांकि इस मोर्चे को गठन से पहले ही झटका लगता दिख रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस मीटिंग से पश्चिम बंगाल की सीएम और तृणमूल की मुखिया ममता बनर्जी दूर रह सकती हैं।
नतीजों का 2019 लोकसभा चुनाव पर दिखेगा सीधा असर
राजनीतिक जानकारों की मानें तो 5 राज्यों के चुनाव नतीजों का सीधा असर आगामी लोकसभा चुनावों पर देखने को मिलेगा। यदि इसमें कांग्रेस मजबूती से उभरती है तो राहुल के नेतृत्व पर मुहर लगेगी और कांग्रेस पार्टी विपक्षी एकता की धुरी बन सकेगी।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY