भूपेश बघेल को मुख्यमंत्री बनाने के ऐलान के साथ ही छत्तीसगढ़ कांग्रेस में जश्न शुरू

0
115

भूपेश बघेल छत्तीसगढ़ के अगले मुख्यमंत्र होंगे। रायपुर में कांग्रेस विधायक दल की बैठक के बाद पार्टी ने इस बात का ऐलान किया है। सोमवार को वे मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। भूपेश बघेल को मुख्यमंत्री बनाने के ऐलान के साथ ही रायपुर में कांग्रेस दफ्तर के जश्न शुरू हो गया है। बड़ी संख्या में पार्टी के कार्यकर्ता दफ्तर के बाहर जमा हुए हैं।
इससे पहले शनिवार को दिल्ली में राहुल गांधी ने छत्तीसगढ़ कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं के साथ बैठक की थी। बैठक के बाद उन्होंने एकता का संदेश दिया था। राहुल गांधी की बैठक के बाद कांग्रेस पर्यवेक्षक पीएल पुनिया ने कहा था कि सोमवार को रायपुर में कांग्रेस विधायक दल की बैठक के बाद मुख्यमंत्री के नाम का ऐलान कर दिया जाएगा। और आज बैठक के बाद सीएम के नाम का ऐलान किया गया।
रविवार दोपहर विधायक दल की बैठक में बघेल के नाम पर मुहर लगाई गई. राज्य में पार्टी ने 15 साल बाद दो तिहाई बहुमत के साथ दोबारा सत्ता हासिल की है. बता दें, छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को 90 सदस्यीय विधानसभा में 68 सीटें हासिल हुई हैं.
भूपेश बघेल छत्तीसगढ़ कांग्रेस पार्टी के मौजूदा अध्यक्ष हैं। वे पिछड़े समुदाय से आते हैं। बघेल ने नगरीय निकाय से लेकर विधानसभा चुनाव तक शानदार रणनीति बनाई, जिसके बदौलत इस चुनाव में कांग्रेस पार्टी को शानदार जीत मिली। भूपेश बघेल ने प्रदेश में संगठन के मजबूत करने का काम किया है।
भूपेश बघेल का जन्म 23 अगस्त, 1961 को दुर्ग के पाटन तहसील में हुआ था। उन्होंने 80 के दशक में कांग्रेस पार्टी के साथ अपनी सियासी पारी शुरूआत की थी। उन्होंने अपने सियासी सफर की शुरूआत यूथ कांग्रेस के साथ की थी। 1990 से 1994 तक वे जिला युवक कांग्रेस कमेटी दुर्ग (ग्रामीण) के अध्यक्ष रहे। 1993 से 2001 तक मध्य प्रदेश हाउसिंग बोर्ड के निदेशक रहे। हैं. पहली बार 1993 में विधायक बने थे. मध्य प्रदेश की दिग्विजय सिंह सरकार में कैबिनेट मंत्री भी रह चुके हैं. वर्ष 2000 में जोगी सरकार में भी कैबिनेट मंत्री रहे. बघेल की दावेदारी इसलिए भी मजबूत बताई जा रही, क्योंकि उन्होंने इस बार विधानसभा चुनाव में संगठन में गुटबाजी को काफी कम करने में अहम भूमिका निभाई और ये ओबीसी जाति से आते हैं. राज्य का एक धड़ा उन्हें सीएम के रूप में देखना चाहता है. हालांकि पिछले साल बीजेपी सरकार के एक मंत्री की कथित सेक्स सीडी उजागर करानेमें प्रमुख भूमिका सामने आई थी. इस आरोप में उन्हें गिरफ्तारी का भी सामना करना पड़ा है.
दरअसल, राज्य के नए मुख्यमंत्री के लिए नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल, अन्य पिछड़ा वर्ग के प्रमुख नेता और दुर्ग लोकसभा सीट से सांसद ताम्रध्वज साहू और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता चरणदास महंत को प्रमुख दावेदार माना जा रहा था.साल 2000 में छत्तीसगढ़ अलग राज्य बना, तब वे पाटन विधानसभा सीट से चुनाव लड़े और शानदार जीत दर्ज की। विधानसभा चुनाव जीतने के बाद वे विधानसभा पहुंचे और अजीत जोगी सरकार में उन्हें कैबिनेट मंत्री बनाया गया। 2003 में राज्य में कांग्रेस की सरकार जाने के बाद भूपेश बघेल को नेता प्रतिपक्ष बनाया गया।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY